Monday, 22nd April 2019 10:37 am
Home  >  देश

सरकार ने सामान्य वर्ग को 10 फीसदी का आरक्षण तो दे दिया, पर नौकरियां कहां से देगी ?

Published on January 19 2019 06:59 pm  |  Author: अंकुर मिश्रा

देश में सरकारी नौकरी की किल्लत है और ऐसे में केंद्र सरकार ने गरीब सवर्णों को नौकरियों में 10 फीसदी का आरक्षण दे दिया है। पूरे देश में केंद्र सबसे ज्यादा नौकरियां पैदा करता है पर 2014 से इसमें 75,000 की कमी आई है।

1 मार्च, 2014 की तुलना में केंद्र सरकार द्वारा घोषित केंद्रीय बजट 2018-19 में कर्मचारियों की संख्या में 75,231 की कमी आई है। केंद्र सरकार हर बजट में अनुमानित कर्मचारियों की घोषणा करती है और यह भी बताती है कि पिछले साल कितनी सख्या थी और आने वाले साल में कितनी होगी। साल 2018-19 के बजट के मुताबिक केंद्रीय कर्मचारियों की संख्या 32.52 लाख है। बता दें इस आकडे में रेलवे शामिल है पर रक्षा सेवा नहीं, इसमें 55 मंत्रालय और विभाग शामिल हैं। बता दें कि 1 मार्च, 2014 में यह आंकड़ा 33.3 लाख था, जिसमें 75,231 कर्मचारियों की कमी आई है।

केद्रीय बजट साल 2018-19 में वादे के अनुसार कर्मचारियों की संख्या 35 लाख से ऊपर बताया गया था, मतलब 2.50 लाख नौकरियों को पैदा किया जाना था, पर हकीकत यह है कि केंद्रीय कर्मचारियों की असल संख्या घटती जा रही है।, बताया जा रहा है कि कर्मचारियों की संख्या घटने का मुख्य कारण कांट्रैक्टर के जरिए भर्ती करना है।

एक विशेष बात यह भी सामने आई है कि पिछले काई सालों से सेवानिवृत्त कर्मचारियों की जगह पर नई भर्ती नहीं की गयी है, बल्कि उन्हीं कर्मचारियों को कई मामलों पर पेंशन के बावजूद कंसल्टेंट के रूप में दोबारा नियुक्त किया गया है। देश में सबसे ज्यादा नौकरियां भारतीय रेलवे ही पैदा करती है पर उसकी भी हालत ख़राब है, उसका मैनपावर 2018 में 2010 के स्तर पर पहुंच गया था, क्योकि साल 2017 में रेलवे के 23,000 कर्मचारियों की छटाई की गयी थी। बता दें कि साल 2016 में रेलवे के पास 13.31 लाख कर्मचारी थे लेकिन अब उसके पास केवल 13.08 लाख लोग ही बचे हैं। सरकार ने अपने पिछले बजट में  रेलवे के मैनपावर को बढ़ाने के लिए कोई प्रावधान नहीं किया था।

ऐसे में यह सवाल उठना लाजमी है कि आखिर 2.50 लाख नौकरियां कहां से आएंगी? तो सरकार का कहना है कि यह नौकरियां पुलिस बलों में पैदा की जायेंगी, उनकी संख्या को 10.24 लाख से बढाकर 11.25 लाख करने की योजना है। इसके अलावा प्रत्यक्ष कर विभाग के कर्मचारियों को 45,000 से बढाकर 80,000, और अप्रत्यक्ष कर विभाग के कर्मचारियों को 54,000 से बढाकर 93,000 कर दी जाएगी।

हम एक स्वतंत्र मीडिया हैं एवं मीडिया को निष्पक्ष रह कर रिपोर्टिंग करने एवं चलाने के लिए धन की जरूरत होती है। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए कृपया आर्थिक मदद करे।

Donate Now     Donate via Paypal

Tags: #Central Government    #Modi    #Jobs    #Railways    #Central Budget    #Direct Taxes Department   

About अंकुर मिश्रा
अंकुर मिश्रा दिल्ली यूनिवर्सिटी से हिंदी में ग्रेजुएट है। अपनी पढाई के दौरान अंकुर विश्वविद्यालय की राजनीती में रहे है और वे भारतीय राजनीति में बेहद दिलचस्पी रखते है। इंडिया पॉलिटिक्स में अंकुर इनपुट डेस्क पर राइटर एवं रिपोर्टर का कार्य कर चुके है। अंकुर को पत्रकारिता के साथ-साथ कवि सम्मलेन एवं कविता पाठ का भी अनुभव है। Email- ankurlive01@gmail.com

Related News

राजस्थान की इन सीटो पर हावी है वंशवाद, हर सीट पर एक खास परिवार का बना है वर्चस्व

लोकसभा चुनाव 2019 1 day ago

मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशाना- 'बाटला हाउस कांड शहीदों का अपमान नहीं था'

लोकसभा चुनाव 2019 1 day ago

इंदौर में कांग्रेस की एक बैठक के बीच बत्ती हुई गुल, मचा हंगामा

लोकसभा चुनाव 2019 3 minutes ago

मोदी के गोद लिए गांव में विकास की ये है हालत, जर्जर पड़ा है जयापुर

लोकसभा चुनाव 2019 1 day ago
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.OK
×

Subscribe Our Newsletter