Monday, 22nd April 2019 09:44 am
Home  >  राज्य चुनाव

MP Election: सपाक्स समाज पार्टी को मिलेगा स्वर्णों का साथ या शिवराज का बना रहेगा राजयोग?

Published on October 02 2018 10:19 pm  |  Author: हितेश कुमार

सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को पलट कर केंद्र सरकार द्वारा लागू किया गया एससी-एसटी अत्याचार अधिनियम को पुराने स्वरूप में लागू किए जाने के बाद सरकार के विरोध का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार का विरोध करने सड़कों पर उतरी संस्थाएं राजनीतिक दल बनाकर चुनावी मैदान में नजर आएंगे। मध्य प्रदेश के शिवराज सिंह चौहान की सरकार की लगातार कमजोर होती राजनीतिक स्थिति पर 'आग में घी' का काम करने वाली सपाक्स समाज पार्टी ने आज मध्य प्रदेश के सभी 230 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ने का घोषणा कि है।

सपाक्स समाज पार्टी के नेताओं ने आज कार्यकारिणी की घोषणा करते हुए कहा कि मध्य प्रदेश की सभी सीटों पर चुनाव लड़ेंगे। चुनाव में मुख्य मुद्दा  अनुसूचित जाति जनजाति अत्याचार अधिनियम को पूर्व की भांति लागू किए जाने का विरोध के अलावा सामाजिक और धार्मिक आधार के बदले आर्थिक आधार पर दिए जा रहे आरक्षण तथा परिवार के एक सदस्य को आरक्षण मिलने के बाद अन्य को आरक्षण का लाभ नहीं दिए जाने का समर्थन किया है। सपाक्स समाज पार्टी ने भी स्वर्ण कार्ड खेलते हुए हीरालाल त्रिवेदी को पार्टी का संरक्षक बनाया है। इनके अलावा चार अन्य लोगों को उपाध्यक्ष के साथ पुरी कार्यकारणी की आज घोषणा कर दिया गया।

मध्य प्रदेश की राजनीतिक स्थिति को देखते हुए अभी तक तीसरी पार्टी को जनता ने ना पसंद किया है। हालांकि बहुजन समाज पार्टी कई चुनावों में अपना खाता खोलकर उपस्थिति तो दर्ज कराती रही है। लेकिन विधानसभा में उनकी आवाज को मजबूत ही नहीं मिल पाता। बताया जा रहा है कि अभी तक के चुनावों में भाजपा और कांग्रेस के अलावा किसी तीसरी पार्टी को राज्य की जनता ने तवज्जो नहीं दिया है। उधर, भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस ने भी सपाक्स समाज पार्टी के राजनीतिक हैसियत को इसी आधार पर खारिज करते हुए कहा है कि अभी तक के चुनाव में दो ही दलों को जनता ने चुना है। हालांकि राजनीतिक विश्लेषक बताते हैं कि सपाक्स राज्य के कई हिस्सों में अपनी उपस्थिति दर्ज करा सकती है। गांधी जयंती के मौके पर सपाक्स समाज पार्टी हुई घोषणा के तुरंत बाद एससी एसटी एक्ट के विरोध में सड़कों पर उतरे सवर्ण संगठनों ने सपाक्स को समर्थन का वादा किया है। बताया जा रहा है कि करणी सेना, श्री परशुराम सेना, अखिल भारतीय ब्राम्हण संगठन, क्षत्रिय महासभा एवं पिछड़ा वर्ग समाज सहित लगभग 70 संगठनों ने इस पार्टी को समर्थन का वादा किया है।

घोषणा के दौरान पार्टी के नेताओं ने अपने वक्तव्य में कहा कि सपाक्स समाज पार्टी अनुसूचित जाति-जनजाति और आरक्षण के विरोधी नहीं है। लेकिन आरक्षण को धार्मिक और सामाजिक स्थिति से हटाकर आर्थिक आधार पर लागू किए जाने की मांग भी किया है। जिससे समाज के हर तबके को इसका लाभ मिल सके। उन्होंने कहा कि भाजपा उपाध्यक्ष कैलाश विजयवर्गीय द्वारा सवर्णों को शहरी नक्सली कहे जाने का भी हम पुरजोर विरोध करते हैं।

मतलब स्पष्ट है कि भाजपा की परेशानी कम होने का नाम नहीं ले रही है। एससी-एसटी एक्ट पर सर्वोच्च न्यायालय का फैसला भाजपा के लिए गले की हड्डी बन गई। फैसले के बाद एससी-एसटी के लोग सड़क पर उतर कर संसद से कानून बनाने की मांग करने लगे तो अधिनियम बनने के तुरंत बाद सवर्णों के द्वारा उग्र रूप से आंदोलन भाजपा के गले की फांस बन गई। मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सपाक्स समाज पार्टी के गठन  से भारतीय जनता पार्टी को कितना नुकसान पहुंचा पाएगा,  यह तो आने वाला समय ही बताएगा। लेकिन वर्तमान परिस्थितियों में सपाक्स समाज पार्टी का गठन भाजपा के सिर दर्द को बढ़ा सकता है।

हम एक स्वतंत्र मीडिया हैं एवं मीडिया को निष्पक्ष रह कर रिपोर्टिंग करने एवं चलाने के लिए धन की जरूरत होती है। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए कृपया आर्थिक मदद करे।

Donate Now     Donate via Paypal

Tags: #sapaks    #spakas samaj party    #bjp    #shivraj    #mp elections    #madhya pradesh elections   

About हितेश कुमार
हितेश कुमार इंडिया-पॉलिटिक्स में बतौर फ्रीलांसर कार्यरत है। ये पौथु (बिहार) के रहने वाले है। हितेश पत्रकारिता में अभिरुचि होने के कारण विभिन्न विषयों पर अपने विचार लिखने की काबिलियत रखते है। इन्होने पत्रकारिता के क्षेत्र में एम.ए. की डिग्री प्राप्त कर, विभिन्न मीडिया हाउस में कार्य किया है। Email- hiteshkumarminku@gmail.com

Related News

राजस्थान की इन सीटो पर हावी है वंशवाद, हर सीट पर एक खास परिवार का बना है वर्चस्व

लोकसभा चुनाव 2019 1 day ago

मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशाना- 'बाटला हाउस कांड शहीदों का अपमान नहीं था'

लोकसभा चुनाव 2019 1 day ago

मोदी के गोद लिए गांव में विकास की ये है हालत, जर्जर पड़ा है जयापुर

लोकसभा चुनाव 2019 1 day ago

मोदी को एमपी के जबलपुर में जनसभा के लिए नही मिली अनुमति, प्रतिनिधि मंडल ने दर्ज की शिकायत

लोकसभा चुनाव 2019 1 day ago
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.OK
×

Subscribe Our Newsletter