Thursday, 21st March 2019 05:23 am
Home  >  राज्य चुनाव

मध्य प्रदेश: विधानसभा चुनाव में देखने को मिलेगा साधु-संतों का बोलबाला

 Image Credit: Youtube Screenshot

Published on September 12 2018 07:35 am  |  Author: हर्ष सोनी

किसी ने सच ही कहा है कि आज के आधुनिक युग में भी लोग तर्क की जगह चमत्कार और अंधविश्वास को ज़्यादा महत्व देते हैं । लेकिन तब क्या हो जब अंधविश्वास और चमत्कार जैसै शब्दों से संबंध रखने वाले साधु- संतों या बाबाओं के हाथों में सत्ता सौंप दी जाए ?

जी हाँ, मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से बड़ी खबर मिल रही है कि साल के अंत में होने वाले विधानसभा के चुनावी मैदान में उतरने के लिए साधु-संतों में खासा उत्साह बना हुआ है । 

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान की सरकार द्वारा पाँच संतों को राज्यमंत्री का पदभार सौंपे जाने के बाद से ही अन्य संतों ने भी राजनीति में प्रवेश करने की इच्छा जताई है । इन संतों की सूची में सबसे पहला नाम कम्प्यूटर बाबा के नाम से मशहूर संत नामदेव त्यागी का बताया जा रहा है । संत त्यागी ने मीड़िया को दिए बयान में स्पष्ट रूप से चुनाव लड़ने की इच्छा ज़ाहिर करते हुए कहा कि यदि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान उन्हें चुनाव लड़ने को कहेंगे तो वे तैयार हैं किन्तु वे बी.जे.पी.पर टिकट देने के लिए किसी भी प्रकार का दबाव नहीं डालेंगे । वहीं संत नामदेव के अनुयायी का कहना है की वे अहिल्या नगरी इन्दौर से चुनाव लड़ेंगे ।

उज्जैन और सिवनी में भी बाबाओं की उम्मीदवारी:

इन्दौर के अलावा प्रदेश की आध्यात्मिक राजधानी एवं बाबा महाकाल की नगरी उज्जैन और सिवनी में भी संतों के विधानसभा में उतरने की तैयारी देखी जा रही है । बाबा अवधेशपुरी, जिन्होंने रामचरित मानस में ड़ाॅक्टरेट की उपाधि प्राप्त की है, उज्जैन से बी.जे.पी.के टिकट पर चुनाव लड़ना चाहते हैं । संत अशधेशपुरी ने पार्टी से अपने संबंध ज़ाहिर करते हुए कहा की वे पार्टी से तब से

जुड़े हैं जब पार्टी अपने अस्तित्व के लिए जूझ रही थी। किन्तु वे भी बी.जे.पी.पर टिकट के लिए दबाव नहीं बनाएंगे एवं टिकट न मिलने की स्थिति में निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में अपनी दावेदारी दर्ज कराएंगे ।  वहीं संत मदन मोहन खड़ेश्वरी ने सिवनी जिले की केवलारी विधानसभा सीट से बी.जे.पी.के टिकट पर चुनाव लड़ने की इच्छा जताते हुए कहा कि उनकी जीत तय है एवं टिकट न मिलने की स्थिति में वे भी निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनावी मैदान में उतरेंगे।

अब देखना यह है की इन संतों में से किसे पार्टी का टिकट मिलेगा एवं कौन निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनावी जंग के मैदान में उतरेगा । लेकिन जनता के मन में इस समय सबसे बड़ा प्रश्न चिन्ह यह है कि अगर इन संतों के हाथों में सत्ता सौंपी जाए तो क्या ये जनता के हित में कार्य करने में सफल होंगे या जनता को चमत्कार, अंधविश्वास और कोरे आश्वासनों से ही काम चलाना पड़ेगा ।

हम एक स्वतंत्र मीडिया हैं एवं मीडिया को निष्पक्ष रह कर रिपोर्टिंग करने एवं चलाने के लिए धन की जरूरत होती है। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए कृपया आर्थिक मदद करे।

Donate Now     Donate via Paypal

Tags: #MP Elections    #vidhan sabha chunav    #mp chunav   

About हर्ष सोनी
हर्ष सोनी इंडिया पॉलिटिक्स के मुख्य संपादक है। अपनी पहली तकनीकी समाचार वेबसाइट स्थापित करने से पहले हर्ष ने फ्रीलांसर पत्रकार के रूप में कई समाचार प्रकाशनों के लिए आलेख लिखे। वे हमेशा ख़बरों को रचनात्मक ढंग से प्रस्तुत करने का तरीका ढूंढते है। Email- info@india-politics.com

Related News

आजाद हुए समझौता एक्सप्रेस बम कांड के आरोपी स्वामी असीमानंद सहित अन्य चार, कोर्ट ने किया बरी

देश 9 hours ago

मध्य प्रदेश: दावेदारों की उठापटक के बीच भाजपा ने तय किये 8 सीटों पर प्रत्याशी, 23 मार्च को आएगी पूरी सूची

लोकसभा चुनाव 2019 9 hours ago

भोपाल एसटीएफ ने पकडे तीन अफीम तस्कर, ममता के पश्चिम बंगाल से लाये थे 1 करोड़ के अफीम

प्रदेश 9 hours ago

बड़ी खबर: मायावती नहीं लड़ेगी लोकसभा चुनाव, खुद किया ऐलान

लोकसभा चुनाव 2019 11 hours ago
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.OK
×

Subscribe Our Newsletter