Monday, 22nd April 2019 09:30 am
Home  >  देश

सरकार को ही नहीं पता कितनी नई नौकरियां दींं, कोई आकड़ा नहीं

Published on January 18 2019 11:14 am  |  Author: हर्ष सोनी

हैरत की बात जरूर है, लेकिन सच है। केंद्र में सत्तासीन नरेंद्र मोदी सरकार को यह खुद नहीं पता कि 2014 के बाद उनकी सरकार में कितनी नई नौकरियां दी गई। सरकार ने खुद संसदीय समिति के सामने यह बात स्वीकार की है। समिति ने सरकार की उन सिफारिशों को भी नामंजूर कर दिया है, जिसमें उसने ईपीएफओ के आंकड़ों को नौकरी दिए जाने के संबंध में स्वीकार करने की सिफारिश की थी। इस समिति के अध्यक्ष भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी हैं। और ऐसा भी पहली बार हुआ है कि समिति के 3 सदस्यों ने अपना विरोध पत्र समिति को सौंपा है।

इन सदस्यों ने इस बात पर एतराज जताया है कि सरकार के पास नौकरियों से जुड़ा कोई आंकड़ा नहीं है। समिति ने अलबत्ता राष्ट्रीय सैंपल सर्वेक्षण संगठन यानी एनएसएसओ की सिफारिशों को नौकरी के जुड़े आंकड़ों को लेकर स्वीकार किया है। लेकिन यह भी एक तथ्य है कि 2011- 2012 के बाद हुए सर्वेक्षण के नतीजे अभी तक सरकार ने जारी नहीं किए हैं। नौकरियों को लेकर श्रम विभाग ने कुछ समय पहले एक सर्वेक्षण किया था, लेकिन दो साल हो जाने के बाद भी केंद्र सरकार ने उसे जारी नहीं किया। इस सर्वेक्षण के नतीजे अलबत्ता लीक हुए थे, जिसके आधार पर यह कहा गया था कि 2016-17 नौकरियों के मामले में सबसे खराब साल रहा है। इसी को देखते हुए शायद केंद्र ने सर्वे को जारी करने से हाथ खड़े कर दिए।

अब, जबकि भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी आने वाले लोकसभा चुनाव से पहले संसद के सामने अपनी रिपोर्ट पेश करेंगे और संभवतः सरकार उससे लाभ लेने की कोशिश करेगी, ऐसे में भाजपा के ही सदस्यों जिनमें राजीव प्रताप रूडी, निखिल दुबे औऱ रमेश बिधुरी शामिल थे, उनके विरोध-पत्र को भी रिपोर्ट में शामिल किया जाना मुश्किल भरा होगा। प्राक्कलन समिति के साथ सरकार का टकराव चल ही रहा है।

सरकार का मानना यह था कि मुद्रा लोन और ईपीएफओ के आंकड़ों मेंं बढ़ोतरी दर्ज किए जाने का संबंध रोजगार में इजाफे से है, लेकिन समिति इसे मानने के लिए तैयार नहीं है, जिससे रोजगार को लेकर किए गए केंद्र के सारे दावे सवालों के घेरे में हैं। युवाओं के भविष्य के साथ भी यह किसी खिलवाड़ से कम नहीं।

हम एक स्वतंत्र मीडिया हैं एवं मीडिया को निष्पक्ष रह कर रिपोर्टिंग करने एवं चलाने के लिए धन की जरूरत होती है। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए कृपया आर्थिक मदद करे।

Donate Now     Donate via Paypal

Tags: #Lok Sabha elections    #BJP    #Narendra Modi    #Murli Manohar Joshi    #Rajiv Pratap Rudy    #Nikhil Dubey    #NSSO   

About हर्ष सोनी
हर्ष सोनी इंडिया पॉलिटिक्स के मुख्य संपादक है। अपनी पहली तकनीकी समाचार वेबसाइट स्थापित करने से पहले हर्ष ने फ्रीलांसर पत्रकार के रूप में कई समाचार प्रकाशनों के लिए आलेख लिखे। वे हमेशा ख़बरों को रचनात्मक ढंग से प्रस्तुत करने का तरीका ढूंढते है। Email- info@india-politics.com

Related News

राजस्थान की इन सीटो पर हावी है वंशवाद, हर सीट पर एक खास परिवार का बना है वर्चस्व

लोकसभा चुनाव 2019 1 day ago

मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशाना- 'बाटला हाउस कांड शहीदों का अपमान नहीं था'

लोकसभा चुनाव 2019 1 day ago

मोदी के गोद लिए गांव में विकास की ये है हालत, जर्जर पड़ा है जयापुर

लोकसभा चुनाव 2019 1 day ago

मोदी को एमपी के जबलपुर में जनसभा के लिए नही मिली अनुमति, प्रतिनिधि मंडल ने दर्ज की शिकायत

लोकसभा चुनाव 2019 1 day ago
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.OK
×

Subscribe Our Newsletter