Monday, 22nd April 2019 09:29 am
Home  >  प्रदेश

“प्रदुषण का कोहरा” दिवाली के अगले दिन की सुबह दिल्ली में धुप भी हुई फेल

Published on November 08 2018 03:09 pm  |  Author: अबुवहाब चौधरी

दिल्ली में भले ही अबकी बार सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद पटाखे कुछ फीसद कम फोड़े गए है लेकिन दिवाली के अगले दिन की सुबह यानी आज दिल्ली में प्रदुषण इतना है, कि सुबह के 9 बजे है फिर भी 3 मीटर की दूर के बाद कुछ दिखाई नहीं दे रहा है। आलम यह है कि 15-20 मिनट अगर सडको पर खड़े हो जाये तो दम घुटने जैसा महसूस होता है। दिल्ली एनसीआर के आसमान में काफी धुंध है पर यह धुंध कम प्रदुषण का कहर ज्यादा है।

आने जाने वाले लोगो से जब इसके बारे में पूछा गया तो गीता कॉलोनी के रहने वाले राजीव कांडपाल ने बताया कि अक्षरधाम के फ्लाईओवर के पास अपने से आगे 2 मीटर का कुछ नहीं दिखाई दे रहा था। वहीं नॉएडा से आने वाले राकेश बंसल ने बताया कि नॉएडा एलीवेटिड रोड पर आसपास की बिल्डिंग भी नहीं दिखाई दे रही है बहुत बुरा हाल है। गुरुग्राम और फरीदाबाद में भी यहीं हाल है। दिल्ली एनसीआर में हवा का चलन बिलकुल न के बराबर इस वजह से प्रदुषण रुका हुआ है। आज सुबह दिल्ली में हवा की गुणवत्ता बहुत ही खतरनाक पाई गयी सुबह 6 बजे एयर क्वालिटी इंडेक्स (AIQ) PM 2.5 805 पाई गयी। आनंद विहार में AQI 999 तथा चाणक्यपुरी में 459 तथा मेजर ध्यानचंद राष्ट्रीय स्टेडियम के पास AQI 999 दर्ज की गयी है।

सुबह के वक़्त दिल्ली में थोडा ठण्ड का एहसास जरूर था लेकिन दिवाली पर हुई आतिशबाजी की वजह से यह असर सूरज निकलने के बाद तक नज़र आया। दिल्ली में आज का न्यूनतम तापमान 10.5 है जो कि एवरेज तापमान से 3 डिग्री कम बताया गया।

सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों की धज्जिया भी उडती नज़र आई। सुप्रीम कोर्ट के 8 से 10 का वक़्त था पटाखे फोड़े का लेकिन यह भी नियम लोगो से सही से नहीं निभाया गया। दिल्ली रात 10 बजे AQI 296 पाई गयी थी वहीं केंद्रीय प्रदुषण नियंत्रक बोर्ड (CPBC) के अनुसार कल शाम 7 बजे यह AQI 281 था जो 8 बजे 291 फिर 9 बजे 294 हो गया था बाद में यह 319 तक पहुँच आगे था जो कि बेहद ख़राब श्रेणी में दर्ज होता है।

सुप्रीम कोर्ट के आदेशो के बावजूद दिल्ली में हरित पटाखों का चलन न के बराबर था। उच्च न्यायालय ने हरित पटाखों की बिक्री और निर्माण की अनुमति दी थी फिर भी इस कानून का उल्लघन हुआ। अगर ये उल्लघन हुआ तो कोर्ट ने कहा था कि उस इलाके का SHO जिम्मेदार होगा अब देखते है कोर्ट इस पर क्या एक्शन लेगा। हरित पटाखे प्रदुषण के मामले में बेहद संतोषजनक बताये जाते है। क्योकि हरित पटाखों से कम रौशनी और आवाज़ कम होती है जिससे प्रदूषण कम होता है। फिर भी कई इलाको जैसे- आनंद विहार, आईटीओ, मयूर विहार, लाजपत नगर, द्वारका नॉएडा में प्रदुषण काफी हद तक खतरनाक पोजीशन पर था। पूरी दिल्ली में रात 8 बजे पीएम 2.5 से पीएम 10 में तेज़ी से वृद्धि हुई। केंद्रीय प्रदुषण नियंत्रक बोर्ड (CPBC) ने बताया कि पिछले साल के हिसाब से अबकी बार कम हानिकारक पटाखे फोड़े गए पर फिर भी यह प्रदुषण आज तीन बजे तक अपनी चरम सीमा पर रहेगा।

हम एक स्वतंत्र मीडिया हैं एवं मीडिया को निष्पक्ष रह कर रिपोर्टिंग करने एवं चलाने के लिए धन की जरूरत होती है। हमारी पत्रकारिता को किसी भी दबाव से मुक्त रखने के लिए कृपया आर्थिक मदद करे।

Donate Now     Donate via Paypal

Tags: #Delhi    #Pollution    #Supreme Court    #Air Quality Index    #Diwali    #Air Pollution    #Delhi NCR   

About अबुवहाब चौधरी
अबुवहाब चौधरी मुम्बई के रहवासी और इंडिया-पॉलिटिक्स में बतौर फ्रीलांसर कार्यरत है। ये एक समाचार एवं फिल्म लेखक है। वहाब पत्रकारिता में किसी किस्म का पक्षपात नहीं करते एवं ताज़ा खबरों की तलाश में रहते है। Email- abuwahabchaudhary@gmail.com

Related News

राजस्थान की इन सीटो पर हावी है वंशवाद, हर सीट पर एक खास परिवार का बना है वर्चस्व

लोकसभा चुनाव 2019 1 day ago

मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशाना- 'बाटला हाउस कांड शहीदों का अपमान नहीं था'

लोकसभा चुनाव 2019 1 day ago

मोदी के गोद लिए गांव में विकास की ये है हालत, जर्जर पड़ा है जयापुर

लोकसभा चुनाव 2019 1 day ago

मोदी को एमपी के जबलपुर में जनसभा के लिए नही मिली अनुमति, प्रतिनिधि मंडल ने दर्ज की शिकायत

लोकसभा चुनाव 2019 1 day ago
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.OK
×

Subscribe Our Newsletter